Ads Top

Amar Jawan Jyoti - अमर जवान ज्योति - hindi poem


 

अमर जवान ज्योति 

तप रहा है भूमि का,
सीना लहू की बूँद से,
डर भी डर से काँपता,
रहता है आँखें मूँद के ।

रोष है, आक्रोश है वो,
होश में तैयार है,
और वरूण से तेज़ उसका,
दुश्मनों पे वार है ।

थर्र थर्रात है हिमालय,
जिसके पग की चाप से,
हिम पिघलता है बराबर,
उसके बल के ताप से ।

नाप ली एक गोते में,
सागर की सब गहराइयाँ,
फीकी पड़ जाती है नभ की,
अनछुई ऊँचाइयाँ ।

वीरता है आत्मा,
क़ुर्बानी जिसकी शान है,
वो अमर जवान ज्योति,
वो अमर जवान ज्योति ।

3 comments:

bhupesh patil said...

Amazing...

Shubham Bichkar said...

हौसला देती है ये कविता
मंजिल हमारे साथ है !

Anju Gupta said...

Your poems just make go crazy....

Powered by Blogger.